Indo Tibetan Border Police

 श्री संजय अरोड़ा
श्री संजय अरोरा
भा0पु0से0 (तमिलनाडू-1988), महानिदेशक भा0ति0सी0पु0

भारत तिब्बत सीमा पुलिस (आईटीबीपी) बल की स्थापना 24 अक्टूबर, 1962 को हुई थी। वर्तमान में आईटीबीपी प्राथमिकत: लद्दाख में काराकोरम दर्रे से अरुणाचल प्रदेश में जाचेप ला तक 3,488 किमी. लंबी भारत-चीन सीमा की सुरक्षा के लिए तैनात है। इसके अलावा बल कई आंतरिक सुरक्षा कर्तव्‍यों एवं छत्‍तीसगढ में वामपंथी उग्रवाद के विरूद्ध अभियानों में भी महत्‍वपूर्ण भूमिका निभा रहा है।

बल की अधिकांश सीमा चौकियां 9,000 फीट से 18,800 फीट तक की ऊंचाइयों पर स्थित हैं जहां तापमान शून्‍य से 45 डिग्री सेल्शियस तक नीचे चला जाता है।

आईटीबीपी राष्‍ट्र का एक विशेष सशस्‍त्र पुलिस बल है जो अपने जवानों को गहन सामरिक प्रशिक्षण के अलावा पर्वतारोहण और स्कीइंग समेत अन्‍य कई विधाओं में प्रशिक्षित करता है जिससे बल की एक विशिष्‍ट छवि है।

आईटीबीपी हिमालय क्षेत्र में प्राकृतिक आपदाओं के लिए 'फर्स्‍ट रेस्‍पोंडर' के रूप में राहत व बचाव अभियानों का संचालन भी करती है।

बल का पिछले 6 दशकों का स्‍वर्णिम इतिहास रहा है जिसमें बल के जवानों ने विभिन्‍न कर्तव्‍यों के दौरान देश सेवा में अनेकों बलिदान दिए हैं।


भर्ती


महत्वपूर्ण सूचनाएं




© सामग्री भारत तिब्बत सीमा पुलिस, भारत सरकार के स्वामित्व.